महाशिवरात्रि के मौके पर बिन्दुखत्ता स्थित हंस प्रेमयोग आश्रम में जुटी भक्तों की भारी भीड़ |

0
72
मंचासीन उपस्थित महात्मागण

लालकुआं- महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर जहां एक और देश के बड़े-बड़े मंदिरों और शिवालयों में सुबह से ही भक्तों की भारी भीड़ देखने को मिली है तो वहीं आस्था का अलौकिक केंद्र नाम से विख्यात श्री हंस प्रेम योग आश्रम में महाशिवरात्रि का विशाल मेला लगाया गया। बताते चलें कि यहां लगने वाला मेला कई दशकों से लगता आ रहा है जिसमें हजारों की संख्या में श्रद्धालु पहुंचते हैं और यहां बने प्राचीन शिवालय पर गंगाजल आदि चढ़ाकर मनोकामनाएं मांगते हैं। भक्तों और श्रद्धालुओं की मानें तो शिवरात्रि का अपने आप में एक अलग ही महत्व है और आज के दिन भगवान भोलेनाथ से जो भी मांगते हैं वह पूर्ण होता है कई श्रद्धालुओं ने बताया कि वह क्षेत्र की सुख शांति और समृद्धि के लिए यहां पूजा अर्चना करने पहुंचे हैं।

पंडाल में उपस्थित भक्तगण

गौरतलब है कि इस आश्रम में आसपास के क्षेत्र के अलावा अन्य शहरों से भी लोग पहुंचते हैं जिससे साफ पता चलता है कि इस आश्रम के प्रति लोगों की कितनी गहरी आस्था जुड़ी है। वहीं मंदिर के पुजारी ने बताया कि आज के दिन आत्मा और परमात्मा का मिलन होता है और जो भी मनोकामनाएं भक्तजन सच्चे मन से मांगते हैं भगवान भोलेनाथ उसकी मनोकामनाएं अवश्य पूरी करते हैं। वहीं आश्रम के महात्मा परमानन्द जी महाराज ने बताया कि यह हंस प्रेम योग आश्रम सतपाल महाराज जी के निर्देशन में संचालित होता है व उनके अनुयाई यहां भारी संख्या में रहते हैं और यहां महाशिवरात्रि के पावन अवसर पर भव्य मेला लगता है उन्होंने बताया कि मंदिर से जुड़ी आस्था को लेकर ही यहां श्रद्धालु दूर-दूर से पहुंचते हैं और मनोकामनाएं मांगते हैं।इस दौरान मुख्य रूप से महात्मा ज्ञातनानन्द, महात्मा ज्ञानप्रकाशनंद, सत्यबोधानंद, साधनानन्द, साध्वी ज्योति बाईजी, नित्या बाईजी, प्रचारिका बाईजी, आत्रेय बाईजी, पुष्पा बाईजी, स्नेहा बाईजी, पंडित पीएल शर्मा, हरीश चंद्र कांडपाल, विमला राणा, लाला सियाराम गर्ग सहित हजारों की संख्या में श्रद्धालूगण मौजूद रहे | 


प्राचीन मंदिर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here